प्रसूता की मौत होने के बाद उत्तेजित परिजनों ने मचाया हंगामा

शेखपुरा न्यूज़। शहर के पटेल चौक स्थित भोजडीह रोड में संचालित अंशु हॉस्पिटल नामक एक निजी नर्सिंग होम में इलाजरत एक 35 वर्षीय प्रसूता की मौत होने के बाद उत्तेजित नागरिकों ने जमकर बबाल काटा। घटना के बाद नर्सिंग होम के चिकित्सक और कर्मी जान बचाकर भाग निकले। जबकि आक्रोशित लोगों ने अस्पताल के बेड निकालकर मुख्य सड़क मार्ग को जाम कर दिया और मृतका के शव को बीच सड़क पर रखकर हंगामा मचाने लगे। इस दौरान अक्रोशित लोगों ने नर्सिंग होम में लगे एलसीडी टीवी को भी तोड़ फोड़ के दौरान तोड दिया।

35 वर्षीय प्रसूता की मौत

घटना से नाराज परिजनों ने अस्पताल पर लापरवाही का आरोप लगाया। घटना की सूचना मिलते ही नगर थाना पुलिस मौके पर पहुंचकर स्थिति को संभाली। मृतका की पहचान अरियरी प्रखंड के कमलबीघा गांव निवासी पप्पू सिंह की 35 वर्षीयरिंकू देवी के रूप में हुई है।इस संबंध में परिजनों ने बताया कि प्रसव के लिये महिला को इस अस्पताल में भर्ती कराया गया था। शनिवार की देर शाम ऑपरेशन से बच्चा हुआ। ऑपरेशन के बाद बच्चा तो ठीक रहा, परंतु प्रसूता की हालत खराब होने लगी। रात भर इलाज चलता रहा सुबह में जब स्थिति पूरी तरह बिगड़ गई और महिला की मौत हो गई। मृतका पहले से 4 बेटियों की मां थी।

Copy
इसे भी पढ़ें..  जिला पदाधिकारी शेखपुरा द्वारा सख्त निदेश ,बच्चे का शत्-प्रतिशत टीकाकरण, टी॰एच॰आर॰ का शत्-प्रतिशत वितरण

नवजात शिशु पुत्र बताया गया है। परिजनो ने बताया कि नर्सिंग होम के संचालक द्वारा उससे 65 हजार रूपए की राशि जमा ली गई थी। जिसमे 30 हजार रूपए ऑपरेशन और इलाज के नाम पर और 35 हजार रूपए खून खरीदने के नाम पर लिया गया था। सूत्रों ने बताया कि इस निजी नर्सिंग होम में एक माह पूर्व भी प्रसव के दौरान एक महिला की मौत हो गई थी। उस वक्त मामले को दबा दिया गया था। नर्सिंग होम का संचालक सदर प्रखंड के कोसुंभा ओपी के बाकरपुर बांक गांव निवासी राम वचन यादव बताया गया है। पुलिस ने मृतका की लाश को जब्त कर पोस्टमार्टम हेतु सदर अस्पताल भेज दी है।

इसे भी पढ़ें..  11 सूत्री मांगों को लेकर सरपंच - पंच संघ का कलेक्ट्रेट के समक्ष धरना

source:शेखपुरा की हलचल

Facebook Comments Box