बिहार

बिहार सरकार ने बदली नीति, अगले साल से 8वीं तक के स्टूडेंट्स को अब पैसे के बदले देगी मुफ्त किताब

बिहार सरकार द्वारा बिहार की शिक्षा विभाग को आगे बढ़ाने के लिए कई प्रयास किये जा रहे है, जिसमें उनके द्वारा स्टूडेंट्स को स्कॉलरशिप देने से लेकर उनको किताब के पैसे मुहैया कराने का फैसला शामिल है, पर इस बार बिहार सरकार ने अपनी कुछ निति में बदलाव करने का फैसला लिया है,जिसमे बिहार सरकार ने कहा है, की अब छात्रों को किताब के पैसे नहीं दिए जायेंगे बल्कि पैसो की जगह उनकों मुफ्त किताबे मुहैया कराई जाएगी. आइये जानते है क्या है पूरी न्यूज़,.

अगले साल से 8वीं तक के स्टूडेंट्स को अब पैसे के बदले देगी मुफ्त किताब

शिक्षा विभाग ने अगले सत्र यानि मार्च में एग्जाम होने के बाद से क्लास 8 के बच्चे को पैसे की जगह मुफ्त की किताबे उपलब्ध करवाने का फैसला किया है, और किताबे मुहैया करवाने की यह जिमेदारी पूरी तरह से विद्यालयों के कर्मचारियो और उनके अध्यापक के ऊपर रहेगी. किताबों के प्रकाशन और उसके वितरण की एजेंसी तय करने के लिए 47 निविदा आयी हैं. विभाग ने तय कर लिया है कि वह 1.27 करोड़ किताबें छपवायेगा. किताब छपवाने के लिए सरकार द्वारा तय की गयी एजेंसी को काम दे दिया जायेगा, और साकार के अनुमान से अगले सैक्षणिक सत्र से किताबो की वितरण शुरू की जाएगी.

हाल ही का ट्वीट

सूत्रों के हिसाब से शिक्षा विभाग द्वारा 1.13 करोड़ किताबें हिंदी की, 4.69 लाख किताबें उर्दू की और अदर विषयों की 9.76 लाख किताबें छापी जानी हैं. इसके अलावा बांग्ला की 1557 किताबें प्रकाशित की जायेंगी,जो स्टूडेंट 70% उपस्थिति की नियम के तहत आएंगे उनको यह किताब उपलब्ध कराई जाएगी, तथा हर जिला के लिए जिलावार किताबे प्रकाशित करवाई जाएगी,

आपको बता दे की इससे पहले स्टूडेंट्स को किताबो के पैसे उनके अकाउंट में भिजवाया जाता था, जिसका की उपयोग बच्चे किताब न खरीद कर दूसरे कामो में लगा देते थे, और इसी को रोकने के लिए शिक्षा विभाग द्वारा यह फैसला लिया गया है, की अब बच्चो को पैसे की जगह किताबे उपलब्ध कराई जाएगी, जिसका की उदाहरण आपको अगले साल से देखने को मिल जायेगा.

Facebook Comments Box
Leave a Comment

Recent Posts