शिक्षा की खबरें

ज़ब एक अनाथ लड़की ने बांधी राखी,तो पुलिस वाले ने कुछ यूं निभाया भाई होने का फर्ज

rakshabandhan special

अक्सर पुलिस को लेकर लोगों के अपने-अपने ख्याल होते हैं, कोई पुलिस को अच्छा बताता है तो कोई बुरा. सबके निजी राय होते हैं. वैसे तो पुलिस का काम लोगों की सेवा करना ही होता है कई बार पुलिस द्वारा ऐसा काम किया जाता है जिससे वह लोगों की नजर में बुरे बन जाते हैं. कई बार रिश्वत लेते हुए तो लोगों को परेशान करते हुए पुलिस को देखा जाता है. ऐसे दो-चार लोगों को देखते हुए हम सब को बुरा नहीं बोल सकते. कई बार पुलिसकर्मी यह साबित करते हैं की पुलिस सच में जन सेवा करती है.

आज हम एक पुलिसकर्मी के बारे में आपको बताने जा रहे हैं जो पुलिस के बारे में आप के नजरिया को बदल कर रख देगी.यह तो सबको पता ही है कि पुलिस का काम जन सेवा करना है मुसीबत में पड़े लोगों की रक्षा करना. हम आपको ऐसे ही एक पुलिसकर्मी के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका नाम है हनुमंत तिवारी. हनुमंत तिवारी न केवल लोगों की सेवा करते हैं बल्कि कई बार तो बेसहारों का सहारा भी बन जाते हैं. आपको बताते चलें कि हनुमंत लाल तिवारी उस समय सबकी नजरों में आए जब उन्होंने अपनी एक मुंह बोली बहन की शादी बड़े ही धूमधाम से अपने पैसों से कराई.

यह पूरा मामला उत्तर प्रदेश के लखीमपुर कस्बा के सिकन्द्राबाद का है। यहां के रहनेवाले विचल त्रिवेदी की बीते वर्ष मौत हो गई। जिसके बाद उनका परिवार बिखर गया था। इस बिखरते परिवार को सहारा मिला कस्बे की पुलिस चौकी पर तैनात प्रभारी हनुमंत लाल तिवारी का। उन्होंने विचल त्रिवेदी की बेटी को अपनी बहन माना और उससे राखी बंधवा ली। थाना प्रभारी हनुमंत ने जब उसे बहन माना तो साथ ही साथ उसके विवाह की जिम्मेदारी भी ले ली।

विचल तिवारी चाट का ठेला लगाते थे और उनकी परिवार की स्थिति भी कोई खास ठीक नहीं है, उनकी पांच बेटियां और एक बेटा है.
हनुमंत तिवारी को एक बार L/O ड्यूटी के दौरान विमल की एक बेटी ने राखी बांधी थी, और अब तिवारी जी ने फर्ज निभा दिया स्वयं खर्चकर धूमधाम से करा दी इस बेटी की शादी।

इसके बाद हनुमंत लाल तिवारी मझगई चौकी के थाना प्रभारी हो गए लेकिन इसके बावजूद वह अपनी जिम्मेदारी नहीं भूले। उन्होंने परिवार के लोगों की सहमति से दिवंगत विचल त्रिवेदी की बेटी अनीता का विवाह बड़े ही धूमधाम से करवाया। दिवंगत की पत्नी कमलेश त्रिवेदी के अनुसार हनुमंत लाल तिवारी ने उनके परिवार के प्रति एक बेटे का हर फर्ज निभाया है। हनुमंत अनीता के तिलक में भी गए थे। विवाह का सारा खर्च थाना प्रभारी हनुमंत ने ही उठाया। इसके अलावा वह अनीता की शादी में एक भाई की तरह अतिथियों के स्वागत के लिए भी खडे रहे.

हनुमंत तिवारी अपने सामाजिक कार्यों के कारण लोगों में काफी प्रसिद्ध है. उन्होंने हाल ही में एक वृद्ध महिला जोनारे भटक रही थी उसे उसके परिवार से मिलाया.हम सलाम करते हैं ऐसे पुलिस कर्मियों को, अपने फर्ज को निभाते हुए जनता की सेवा भी करते हैंऔर हर संभव मदद भी करते हैं.

हम सलाम करते हैं ऐसे पुलिसकर्मियों जो अपना फर्ज निभाते हुए जनसेवा भी करते हैं. हम सलाम करते हैं हनुमंत तिवारी के इस जज्बे को जो देश सेवा का जज्बा उनके अंदर है

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top