देश न्यूज़

लालू परिवार को पप्‍पू यादव की गिरफ्तारी के बाद अलग ही डर, तेजस्‍वी-तेज प्रताप ने नहीं खोला मुंह

पटना, ऑनलाइन डेस्क। Bihar Politics: जन अधिकार पार्टी के संरक्षक और पूर्व सांसद पप्पू यादव की गिरफ्तारी को लेकर बिहार का प्रमुख विपक्षी दल राष्ट्रीय जनता दल पशोपेश में पड़ गया है। राजद के प्रमुख नेता तेजस्वी यादव, उनके बड़े भाई तेजप्रताप यादव या उनके पिता लालू प्रसाद यादव ने भी पप्पू यादव की गिरफ्तारी पर मुंह नहीं खोला है। अलबत्ता पार्टी के कई नेता इसे नौटंकी बता रहे हैं। राजद के कई नेताओं ने तो यहां तक का डाला है कि राज्य सरकार मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए ऐसा कर रही है। दरअसल राजद को डर है कि गिरफ्तारी के बाद पप्पू यादव कहीं हीरो न बन जाएं। युवा राजद के प्रदेश अध्यक्ष कारी सोहैब सहित कई नेताओं ने इशारों – इशारों में इसे नौटंकी तक करार दे दिया है।

लालू परिवार के किसी ट्विटर अकाउंट से नहीं निकला एक शब्द

दिन भर में पांच पांच बार ट्वीट करने वाले लालू परिवार के कई सदस्यों ने इस मसले पर कुछ भी नहीं बोला। सामान्‍य तौर पर लालू प्रसाद यादव, तेजस्‍वी यादव, तेज प्रताप यादव, मीसा भारती और रोहिणी आचार्य के ट्वटिर अकाउंट के अलावा राजद के अकाउंट से भी बिहार की हर प्रमुखराजनीतिक गतिविधि पर टिप्‍पणी जरूर की जाती है। और तो और चर्चा यह भी चली कि राजद की ओर से पप्पू यादव की गिरफ्तारी के विरोध में किया गया एक ट्वीट बाद में हटा लिया गया था। यही सवाल जब पत्रकारों ने पप्पू यादव से पूछा तो उन्होंने अपने तरीके से तेजस्वी यादव को चुनौती भी दे डाली। उन्होंने कहा कि तेजस्वी अस्पताल में मरीजों के बीच जाएं और उनकी सेवा करें। जरूरतमंदों की मदद के लिए बाहर निकलें। उनके लिए दवाएं और ऑक्सीजन की व्यवस्था करें।

एनडीए के दलों ने जो आरोप लगाया, वह वैसी ही की मांग

दरअसल ऐसे ही विषयों पर एनडीए में शामिल पार्टियां तेजस्वी को घेरती रही हैं। भाजपा और जदयू के नेता भी लगातार कहते रहे हैं कि आपदा के समय तेजस्वी यादव बिहार से गायब हो जाते हैं। जदयू के प्रवेश प्रदेश प्रवक्ता  अभिषेक झा ने पिछले दिनों कहा कि लालू के दोनों बेटे फार्म हाउस में मौज कर रहे हैं। हालांकि जदयू के इस आरोप के तुरंत बाद तेजप्रताप सक्रिय हुए। उन्होंने पटना के पीएमसीएच और गर्दनीबाग अस्पताल में जाकर लोगों से मुलाकात की और खाने के पैकेट बांटे।

कोरोना काल में अपनी सक्रियता से चर्चा में रहे पप्‍पू

दरअसल पप्पू यादव कोरोना काल में लगातार सक्रिय रहे हैं। वह राज्य के कई हिस्सों के अस्पतालों में जाकर मरीजों से मिलते रहे। उनको मरीजों के स्वजनों को बीच जरूरी दवाओं और ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था करते देखा गया। इसको लेकर काफी लोग उनकी तारीफ भी कर रहे हैं। तो कई लोग इसे नौटंकी बताते हैं और लॉकडाउन का उल्लंघन भी। प्रशासन की ओर से भी लॉकडाउन के उल्लंघन को लेकर पप्पू यादव पर कई मुकदमे दर्ज किए गए हैं।

source : opera news

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top