पंचायत चुनाव

पंचायत चुनाव : 6 साल में करोडो रूपये की मालकिन बन गई यह महिला सरपंच, महीने मे मिलते थे 3000 रुपए पर घर में मिले 12 करोड़

Panchayat Chunav

पिछले मंगलवार को मध्य प्रदेश से एक चौंकाने वाली खबर सुनने को मिली है. बता दें कि मध्यप्रदेश में एक सरपंच के घर रेड पड़ा, रेड के बाद महिला सरपंच के घर इतनी ज्यादा राशि जबकि है जितना कोई बिजनेसमैन भी इतने कम समय में नहीं कमा पाता.

आलीशान घर में बना रखा था स्वीमिंग पूल- मध्य प्रदेश के रीवा जिले के बैजनाथ गाँव में सरपंच सुधा जितेंद्र सिंह के निवास पर बीते मंगलवार को लोकायुक्त रेड पड़ी। रेड से बरामद हुई प्रॉपर्टी का जब हिसाब किया गया तो सब चौक गए। सरपंच के बंगले की कीमत 2 करोड़ रूपए की बताई गई। इस घर में एक स्वीमिंग पूल था। महिला सरपंच सुधा 2015 में सरपंच बनीं थीं। और महज़ 6 सालों मे वो करोड़पति बन गईं।

महँगी गाड़ियों का था शौक, 7 करोड़ की गाड़ियां बरामद-
रेड के समय आवास से कई सारी चीज़ें बरामद हुई । 2 क्रेसर मशीन, 1 मिक्सचर मशीन ,1 ब्रिक मशीन और 30 बड़े वाहन। इन वाहनों में चेन माउंट, जेसीबी, हाइवा, लोडर, ट्रेक्टर, इनोवा, स्कॉर्पियो , ईंट मशीन जैसे वाहन थे। इन वाहनों की कीमत 7 करोड़ रुपए है।

सोने-चाँदी भी भारी मात्रा में ज़ब्त किये गए। 20 लाख रूपए के सोने-चाँदी से बने गहने मिलें। 12 लाख रूपए जीवन बीमा पॉलिसी और बैंक खाते से मिले। कुल मिलाकर 12 करोड़ की संपत्ति पाई गई जिसकी कार्रवाई जारी है। एसपी लोकायुक्त राजेंद्र वर्मा के अनुसार, सरपंच के 4 ठिकानों पर जांच जारी है।

ठेकेदार पति के साथ मिलकर उठाया सरकारी योजनाओं का फायदा- जांच में यह बात सामने आई है कि महिला सरपंच का पति ठेकेदार है और महिला सरपंच अपने पति के साथ मिलकर सरकारी योजनाओं का गलत तरीके से फायदा उठाती है. बता दें कि सरकार ₹2500 सरपंचों को मानदेय देती है कुल मिलाकर ₹3000 सरपंचों को मिलता है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top