शेखपुरा

शेखपुरा : कोविड के संक्रमण के दौरान शाम के 4 बजते ही शहर के बड़े – बड़े दवा दुकानों को बन्द करने पर जताया एतराज

कोविड -19 के तेजी से हो रहे संक्रमण और इससे होनेवाली मौतों से जहां जिलेवासी भयभीत है। वहीं पिछले कुछ दिनों से शहर के नामी – गिरामी दवा दुकानों के मालिक अपनी दुकानें शाम के 4 बजते ही बन्द कर दे रहे है । जो कि चिंता का विषय है। आज की विषम परिस्थिति में लोगों को दवा की जरूरतें काफी महत्वपूर्ण हो गई है। लेकिन बड़े बड़े दवा दुकानदार अपनी अपनी दुकानों को बन्द कर चलते बन रहे है। वहीं दर्जनों मरीजों के परिजन आवश्यक दवा के लिए शहर के खुले छोटे छोटे दवा की दुकानों का चक्कर लगा रहे है।

फिर भी उनको सभी तरह की आवश्यक दवा नहीं मिल पा रही है। जबकि सरकार ने रात्रि कर्फ्यू और लॉक डाउन के दौरान दवा दुकानों को मुक्त रखा है। फिर भी शहर के कटरा चौक , गिरिहिंडा , बुधौली आदि जगहों के बड़े बड़े दवा दुकानों के मालिक अपनी अपनी दुकानों को बन्द कर रखे है। मालूम हो कि शेखपुरा एक ग्रामीण इलाके का छोटा बाजार है। इस शहर में गिने चुने दो तीन की ही संख्या में बड़े दवा दुकान है। जहां कि आम आदमी को आसानी से जरूरत की दवाएं आसानी से मिल जाया करती है।

इस बाबत आई एम ए के जिला सचिव और मुंगेर के पूर्व सिविल सर्जन डॉ के पुरूषोतम ने शहर के बड़े बड़े दवा दुकानों को शाम ढलते ढलते बन्द कर दिए जाने पर ऐतराज जताते हुए इसे जनहित को अनदेखी भरा कदम बताया है। उन्होंने जिला प्रशासन से मांग की है कि कोविड के इस भीषण महामारी के दौरान दिन रात खोलने का सख्त निर्देश दें या रात्रि के कमसे कम नौ बजे तक जरूर दुकानों को खुला रखने की हिदायत दी जाय।

ताकि दवा के अभाव में मरने वाले लोगों को बचाया जा सके।उन्होंने कहा कि प्रशासन के आदेश का अवहेलना करनेवालों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई करने की भी जरूरत है ।

source : शेखपुरा की हलचल

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top