शेखपुरा न्यूज़

बिना निर्माण कार्य के मनरेगा की राशि निकालने का मामला सामने आया

शेखपुरा न्यूज़।डीएम सावन कुमार के लगातार सख्ती के बावजूद जिले में विकास कार्यों को लेकर सरकारी राशि के साथ लूट में लगे अधिकारी और कर्मचारी अपने क्रियाकलाप में सुधार लाते नहीं दिख रहे हैं। जिलाधिकारी सावन कुमार ने शनिवार को चेवाड़ा प्रखंड में चलाए जा रहे विकास योजनाओं का जायजा लिया। औचक निरिक्षण के दौरान मनरेगा के तहत चलाया जा रहे विकास कार्यों में भारी गड़बड़ी से दो चार हुए । चेवाड़ा प्रखंड के छठियारा पंचायत अंतर्गत लुटौत गांव में बिना निर्माण कार्य के मनरेगा की राशि निकालने का मामला सामने आया।

मनरेगा की राशि निकालने का मामला

योजना में काम करने वाले मजदूरों का भौतिक सत्यापन के क्रम में ग्रामीणों ने किसी मजदूर की पहचान नहीं कर सके। इस संबंध में मनरेगा कार्यक्रम पदाधिकारी और पंचायत रोजगार सेवक भी योजना से अनभिज्ञ दिखे। इस संबंध में जिला सूचना एवं जनसंपर्क विभाग द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार लुटौठ गांव में महेश शर्मा को आहार नाला से पूर्व नाला तक आरसीसी नाला निर्माण का कार्य प्रारंभ किया गया था। जबकि इसकी राशि पूर्व में ही निकासी की जा चुकी है। उसी प्रकार नकदी खंधा में इमली पेड़ के पास चबूतरा निर्माण की राशि भी निकासी कर ली गई है। योजना को पूर्ण बताते हुए मजदूरी एवं अन्य भुगतान कर दिया गया है। लेकिन वहां किसी प्रकार का निर्माण कार्य नहीं हुआ है। जिलाधिकारी ने ग्राम मसाढी में दो स्थानों पर पुलिया निर्माण से संबंधित योजना का भी निरीक्षण किया। प्राक्कलन के अनुसार यहां दो पुलिया का निर्माण किया जाना था। किंतु जांच के दौरान एक ही पुलिया का निर्माण कार्य किया हुआ पाया गया।

मसाढी में सामुदायिक शौचालय का निर्माण के निरीक्षण के क्रम में शौचालय का दरवाजा और सेप्टिक टैंक का निर्माण नहीं किया गया। शौचालय की स्थिति भी दयनीय पाई गई। ग्राम पंचायत के वार्ड नंबर 13 में 10 दिनों से नल जल योजना भी बाधित पाई गई। यहां जलापूर्ति केंद्र का स्टार्टर खराब रहने के कारण यह स्थिति बनी हुई थी ।डीएम सावन कुमार ने पीएचईडी के कार्यपालक अभियंता को यहां अभिलंब जलापूर्ति बहाल करने का निर्देश दिया। इसके अलावा जिलाधिकारी ने इन सभी गड़बड़ियों पर कड़ा एतराज जताते हुए संबंधित दोषी के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने का निर्देश दिया। मनरेगा के कार्यों के संबंध में कार्रवाई करने का निर्देश डीडीसी को दिया गया। जबकि अन्य निर्माण कार्य के लिए दोषी ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई के लिए बीडीओ को निर्देश दिया।

Source : शेखपुरा की हलचल

Facebook Comments Box
Leave a Comment

Recent Posts