शेखपुरा न्यूज़

शेखपुरा जिले कि शान 44 वर्षीय अनारकली कि आकस्मित मौत से सदमे में जिले वासी… मेहुस गांव में होगा अंतिमसंस्कार

शेखपुरा न्यूज़ : मामला बरबीघा प्रखंड के केवती पंचायत के मिल्कीचक गांव का है. 1978 में उनके ससुर ने इस हाथी को 10 हजार रुपये में खरीदा और इसे गांव के जमींदार सूर्यमणि सिंह को शादी के तोहफे के रूप में दे दिया। तब से सूर्यमणि सिंह ने अपने बच्चों की तरह उनका पालन-पोषण किया I अनारकली की उसी पोजीशन में मौत हो गई, जिस स्थिति में वह रविवार को बैठी थी। इसके बाद क्रेन की मदद से शव को बाहर निकाला गया। अंतिम संस्कार के लिए अनारकली को दुल्हन की तरह सजाया जाता है। जिस स्थान पर वह रहती थी, उसके पास एक गड्ढा खोदा जाएगा और उसका अंतिम संस्कार पूरे अनुष्ठान के साथ किया जाएगा।

शेखपुरा जिले कि शान 44 वर्षीय अनारकली कि आकस्मित मौत

जिले की शान अनारकली नाम की 46 वर्षीय मादा हथिनी की अचानक मौत हो गई। मौत से पूरे जिले में शोक का माहौल है। हाथी की मौत उसके महावत मो फैमुद्दीन के घर पर हुई। दरअसल अनारकली गांव मेहुस निवासी और जाने माने किसान सूर्यमणि सिंह के घर पिछले 44 साल से सजा रही थी. रविवार देर रात उनकी अचानक हुई मौत से महावत का पूरा परिवार और मालिक भी सदमे में है. अनारकली न केवल उक्त गांव के लिए बल्कि वर्तमान शेखपुरा जिले के लिए भी गर्व की बात थी।

जानकारी के मुताबिक कुछ महीने पहले हाथी के घर में सांप के घुसने से वह लगातार असहज महसूस कर रही थी. कुछ दिनों से बीमार रहने के कारण रविवार की रात उन्हें महावत मिल्कीचक ने उन्हें प्रसन्न करने के लिए लाया था। यहां रात में सोते हुए उसकी मौत हो गई I उन्होंने मेहुस गांव में सुंदर सिंह कॉलेज, पावर ग्रिड, हाई स्कूल और सरकारी अस्पताल के लिए अपनी जमीन सरकार को दे दी. जबकि सूर्यमणि सिंह के ससुर भी लखीसराय जिले के जमींदार थे। वह 400 बीघा जमीन के मालिक थे। उसकी इच्छा थी कि वह दामाद को बेटी की शादी में एक हाथी उपहार में दे। हाथी के शव को क्रेन की मदद से मिल्की चक गांव से मेहुस लाया गया है. जहां किसान सूर्यमणि सिंह के हाथी फार्म और उनके दलन के बगल में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। इस हाथी के कोई बच्चा नहीं था। आपको बता दें कि शेखपुरा, नालंदा, नवादा समेत आसपास के कई जिलों में किसी राजा या बड़े किसान के पास हाथी नहीं है. लोगों के अनुसार, पास के लखीसराय (पिपरिया) में एक को छोड़कर आसपास के जिलों में पालतू हाथी नहीं हैं।

Facebook Comments Box
Leave a Comment