वादिये-कश्मीर का पहला दामाद बना महाराष्ट्र का ये लड़का, धारा 370 हटने के बाद शादी कर ले आया अपनी दुल्हनिया…

कुछ समय पहले तक जम्मू-कश्मीर देश एक ऐसा राज्य था जहां किसी लड़की को किसी और राज्य की लड़के से शादी करनी होती थी, तो उसे अपने सारे अधिकार छोड़ने पड़ते थे। लेकिन अब नहीं क्योंकि मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर से विशेष दर्जा प्राप्त अनुच्छेद 370 को निरस्त कर दिया है।जिसके बाद अब ऐसा नहीं है कि अगर कोई लड़की दूसरे राज्य के लड़के से शादी करती है तो उसके अधिकार छीन लिए जाने चाहिए। धारा 370 हटने के बाद सबसे ज्यादा फायदा मिला है, जिसका उदाहरण आज देखने को मिला है।

दरअसल, महाराष्ट्र के फौजी युवक अजीत पाटिल और कश्मीर की हिंदू लड़की सुमन देवी का मामला सामने आया है। दरअसल महाराष्ट्र के सतारा जिले की तहसील के उंडेल गांव के रहने वाले अजीत प्रह्लाद पाटिल। जो भारतीय सेना में सेना शिक्षा निरीक्षक के पद पर पहली पोस्टिंग के रूप में वर्ष 2019 में झांसी पहुंचे थे।वहां उनका एक दोस्त भी उनके साथ काम कर रहा था और कश्मीर की सुमन देवी कुछ दिनों के लिए उनके घर मेहमान बनकर आई थीं। सुमन देवी कश्मीर के किश्तवाड़ जिले की जोधानगर तहसील के पालमार गांव की रहने वाली थीं।

ऐसे में अजीत को अपने दोस्त कश्मीरी सिपाही के घर भी जाना था, इसलिए फौजी दोस्त ने अजीत को उसकी बहन सुमन देवी से मिलवाया। सुमन देवी को देखते ही पहली मुलाकात में ही अजीत उन्हें पसंद करने लगे, धीरे-धीरे दोनों की उम्र बढ़ने लगी और दोनों एक दूसरे को पसंद करने लगे।लेकिन उन दिनों तक धारा 370 इन दोनों के प्यार के बीच खड़ी थी। यह बात 9 अगस्त 2019 से पहले की है जब अजीत और सुमन एक दूसरे को पसंद करते थे लेकिन दोनों के बीच शादी की कोई बात नहीं हुई और न ही उनके घरवाले इसके पक्ष में थे।

लेकिन इसी बीच मार्च 2020 में अजीत अपने दोस्त के साथ कश्मीर के एक कार्यक्रम में गया और उसके बाद ही कोरोना वायरस लॉकडाउन हो गया. अब ऐसे में एक-दो दिन नहीं अजीत पूरे 3 महीने कश्मीर में रहा और इन 3 महीनों में अजीत और सुमन के बीच प्यार के फूल खिल गए और दोनों ने फैसला किया कि अब उन्हें शादी करनी है।धीरे-धीरे अजीत वापस झांसी पहुंचा और 3 महीने की ड्यूटी करने के बाद वह महाराष्ट्र में अपने गांव पहुंचा, जहां पहुंचकर उसने अपने घरवालों को सारी बात बताई. पहले तो परिवार भी कश्मीर के नाम को लेकर काफी घबराया हुआ था।

जिसके चलते अजीत और सुमन की पहली शादी कश्मीरी रीति रिवाज से 27 नवंबर 2020 को हुई थी और उसके बाद 18 दिसंबर 2020 को वहीं अपने गांव महाराष्ट्र में शादी कर ली. मोदी सरकार द्वारा लिए गए फैसले से पहला और सबसे बड़ा फायदा अजीत और सुमन देवी को मिला है, वे 2 दिन तक एक-दूसरे से जुड़ पाए हैं।लेकिन जब अजीत ने अनुच्छेद 370 को हटाने की बात नहीं की और कहा कि अब भी कोई सरकार के पास नहीं आएगा, तो बहू को अजीत के गांव में स्वागत के साथ लाने का फैसला किया गया। जिसके चलते दोनों शादी के लिए राजी हो गए, पहले शादी कश्मीरी रीति-रिवाजों से होगी और फिर महाराष्ट्र के रीति-रिवाजों के अनुसार।

Laxmi Kumari

Leave a Comment

Recent Posts

शेखपुरा : 27 सितम्बर को बंद को लेकर महागठबंधन की बैठक संपन्न

शेखपुरा, संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा आहुत 27 सितम्बर को भारत बंद को लेकर अखिल भारतीय…

1 day ago

शेखपुरा : एकसारी बीघा छत पर से पानी गिराने को लेकर विवाद मारपीट, एक महिला  घायल सदर अस्पताल में भर्ती

सदर थाना अंतर्गत एकसारी बीघा गांव में बच्चे के द्वारा छत से पानी गिराने को…

1 day ago

शेखपुरा : शेखपुरा पुलिस के द्वारा कटरा बाजार में कराया गया अतिक्रमण मुक्त दुकानदारों को दी गई चेतावनी

शेखपुरा शहर के कटरा बाजार में अतिक्रमणकारियों के द्वारा अतिक्रमण किए जाने से लगातार जाम…

1 day ago

शेखपुरा : शेखपुरा प्रखंड कार्यालय में पेंशन धारियों की जीवन प्रमाणीकरण के लिए किया जा रहा है भौतिक सत्यापन दूसरे दिन भी उम्मीद रही भीड़

शेखपुरा प्रखंड कार्यालय में पेंशन धारियों के जीवन प्रमाणीकरण के लिए भौतिक सत्यापन का कार्य…

1 day ago

शेखपुरा : दल्लू चौक के समीप विद्यासागर टेडर्स इलेक्ट्रिक गाड़ी शोरूम एवम कवि सम्मेलन का किया गया आयोजन

शेखपुरा दल्लू चौक भोजडीह रोड, शेखपुरा के समीप विद्यासागर टेडर्स इलेक्ट्रिक गाड़ी शोरूम का उद्घाटन…

7 days ago

शेखपुरा : जिले में शनिवार को विभिन्न टीकाकरण केंद्र पर 510 लोगों को दिया गया कोरोना रोधी टीका

कोरोना संक्रमण के तीसरे लहर से बचाव को लेकर जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग के…

7 days ago

This website uses cookies.