सेक्स वर्कर के अधिकार विषय पर कार्यशाला आयोजित

सेक्स वर्कर भी मानव है। संविधान में प्रतिपादित सभी मानवीय अधिकार का उपयोग करने का उन्हें भी अधिकार है । समाज और पुलिस द्वारा उन्हें अपराधी की तरह देखने और व्यवहार करने की प्रवृत्ति पर रोक लगाने की आवश्यकता है। पुलिस और प्रशासन द्वारा उनके भी मूलभूत अधिकारों की रक्षा करने का दायित्व है।

विषय :सेक्स वर्कर के अधिकार

यह बातें हैं सेक्स वर्कर के अधिकार पर आयोजित कार्यशाला में जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव एडीजे धर्मेंद्र झा ने कही। समाहरणालय के मंथन सभागार में इस विषय पर लेकर जिला विधिक सेवा प्राधिकार द्वारा कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसमें डीएम सावन कुमार डीडीसी अरुण कुमार झा सहित बड़ी संख्या में आंगनवाड़ी सेविका आशा दीदी जीविका दीदी आदि उपस्थित थे।

Copy

कार्यशाला में बताया गया कि भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने इसी साल 19 मई को बुद्धदेव कर्मस्कार बनाम पश्चिम बंगाल सरकार मामले में सुनवाई करते हुए सेक्स वर्करों को भी आम मानव के तहत सभी प्रकार के अधिकार प्रदान करने का निर्देश सरकारों के कल्याणकारी एजेंसियों को दिया है। इसी के तहत जिला विधिक सेवा प्राधिकार द्वारा इस विषय पर कार्यशाला आयोजित कर उनके अधिकारों की रक्षा करने को लेकर सभी एजेंसियों को संवेदनशील बनाने का प्रयास किया जा रहा है।

बताया गया कि आपसी सहमति के आधार पर सेक्स को अपराध नहीं माना गया है। इसलिए ऐसे मामलों में सेक्स वर्करों को प्रताड़ित करने गिरफ्तार करने आदि नहीं का स्पष्ट निर्देश जारी किया गया है । सेक्स वर्करों को भी आम महिलाओं की तरह यौन शोषण के मामलों में सभी प्रकार के चिकित्सीय प्रतिकर और कानूनी मदद पहुंचाने के बारे में कार्यशाला में जानकारी दी गई ।जिलाधिकारी ने कार्यशाला में मौजूद ग्रास रूट की महिला कार्यकर्ताओं को इस कार्य में आगे आकर प्रशासन और पुलिस की मदद करने की अपील की। इन महिलाओं को समाज में फैली कुरीतियों के बारे में भी जागरूकता पैदा करने की अपील की गई। शराबबंदी दहेज प्रथा निषेध बाल विवाह आदि पर भी लोगों को जागरूक करने का संदेश दिया गया।

source:शेखपुरा की हलचल

Facebook Comments Box