ताज़ा खबरें

Mayawati Successor Akash Anand: बसपा सुप्रीमो मायावती ने भतीजे आकाश आनंद को बनाया अपना उत्तराधिकारी, सौंपी अपनी पूरी विरासत

बहुजन समाज पार्टी के सुप्रीमो मायावती ने आज लखनऊ में आयोजित पार्टी बैठक के दौरान एक बड़ा फैसला लिया। मायावती ने अपने भतीजे आकाश आनंद को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया है। आकाश आनंद पिछले काफी समय से सक्रिय थे। आकाश आनंद पिछले 6 सालों से राजनीति में काफी सक्रिय हैं। उनकी राजनीति में एंट्री साल 2017 में हुई थी उस दौरान वह सहारनपुर में मायावती की एक जनसभा में उनके साथ मंच पर दिखे थे।

यूपी के पूर्व सीएम मायावती ने रविवार की सुबह पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारियों और सभी राज्यों के प्रमुख पदाधिकारियों की मीटिंग बुलाई गई थी। इस मीटिंग में वह आकाश आनंद के साथ पहुंची। कहा गया था की मीटिंग में लोकसभा चुनाव 2024 की रणनीति के मद्देनजर चर्चा होगी। इसी मीटिंग में मायावती ने आकाश आनंद को अपनी विरासत सौंप दी। उन्होंने उन्हें अपना उत्तराधिकारी घोषित करते हुए यूपी और उत्तराखंड छोड़कर पूरे देश में पार्टी की जिम्मेदार उन्हें सौपने का ऐलान कर दिया।

मायावती के इस अचानक ऐलान से राजनीतिक गलियारों में हलचल तेज हो गई है। कहां जा रहा है कि पिछले कई साल से पार्टी को लोकसभा और विधानसभा चुनाव में मिल रही हार के चलते मायावती कुछ समय से नई पीढ़ी को आगे बढ़ाने पर विचार कर रही थी। हाल ही में उन्होंने आकाश आनंद को कई बड़ी जिम्मेदारियां दी थी। पार्टी सुप्रीमो ने उन्हें कई अहम पद ही नहीं दिए बल्कि चुनावी राज्यों में प्रभारी भी बनाया था।

आकाश आनंद के पार्टी में बढ़ते कद के चलते पार्टी के राष्ट्रीय नेताओं को यह संकेत था कि भविष्य में वह पार्टी सुप्रीमो के उत्तराधिकारी हो सकते हैं। पर यह इतनी जल्दी हो जाएगा ऐसा किसी ने नहीं सोचा था। आज 10 दिसंबर (रविवार) को मायावती ने अचानक आकाश आनंद को अपनी विरासत सौंप कर सबको हैरान कर दिया।

आकाश आनंद बसपा सुप्रीमो मायावती के छोटे भाई आनंद कुमार के बेटे हैं। आकाश आनंद की स्कूली पढ़ाई लिखाई गुड़गांव में हुई है। आगे की पढ़ाई उन्होंने लंदन में कि। वह लंदन में मास्टर आफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन कर चुके हैं। इसी साल वह मायावती के साथ एक भारी रैली में मंच पर दिखाई दिए थे। इसके बाद उन्हें लेकर राजनीतिक गलियारों में चर्चा शुरू हो गई थी।

पिछले 6 सालों से उनकी सक्रियता लगातार बढ़ती रही है। वर्तमान में वह पार्टी नेशनल ऑर्डिनेटर पद पर हैं। हाल ही के दिनों में आकाश आनंद की जिम्मेदारियां पार्टी में तेजी से बढ़ती चली गई। उन्होंने यूपी ही नहीं दूसरे राज्यों में भी संगठन की बैठकें और सभाएं की।

मायावती ने अपने भतीजे आकाश आनंद को ही उत्तराधिकारी क्यों सौंपा। यह सवाल आज हर किसी की जुबान पर है। सियासी जानकारों का कहना है कि मायावती अब आकाश आनंद को भविष्य की राजनीति के लिए तैयार कर रही है।

2024 के लोकसभा चुनाव से पहले उन्हें विरासत सौंपकर वह उन्हें चुनावी दांव- पेच, टिकटों के वितरण और सियासत कें अन्य पहलुओं में पारंगत करने की कोशिश करेंगी। ताकि आगे चलके पार्टी को संभालने के लिए वह पूरी तरह से तैयार हो। वह यह सुनिश्चित करना चाहती है कि पार्टी पर आकाश आनंद भी उनके जैसी ही कमान हासिल करें। ऐसा करके मायावती, भविष्य में पार्टी में नेतृत्व को लेकर किसी किस्म की खींचातानी की संभावनाओं को भी खत्म कर देना चाहती है।

पिज्जा बर्गर की तरह खाता है जानवरों का कच्चा मांस 10 साल किया बैडमिंटन खिलाड़ी को डेट, दुल्हन बनने को तैयार तापसी? एक्ट्रेस ने बताया सच प्रेग्नेंट है एक्ट्रेस, चलानी सीखी मशीन गन… ली मिलिट्री ट्रेनिंग, वीडियो देख फैंस के छूटे पसीने 200 जिम के मालिक, दिया 30 करोड़ टैक्स, अभी भी कुछ ऐसा है धोनी का जलवा क 25 की अनन्या ने खरीदा पहला घर, अंदर से है आलीशान, गौरी खान ने किया डिजाइन