लव क्राइम

My Story : मेरी ख्वाहिश पूरी करने के लिए मेरी पत्नी ने गैर मर्द के साथ संबध बनाएं, अब मुझे…

आज एक ऐसी कहानी के बारे में लोग जानेंगे जिसमें एक महिला के पति खुद से आगे बढ़ कर अपनी पत्नी से कहते हैं कि तुम मेरी ख्वाइश पूरी कर दो तो ही मैं तुम्हें अपने घर पर रख सकता हूँ

मैं और मेरे पति एक-दूसरे से बिल्कुल अलग हैं। हम दोनों के बीच बिल्कुल भी समानता नहीं है। लेकिन इसके बाद भी हम एक-दूसरे को बहुत पसंद करते थे।

ऐसा इसलिए क्योंकि उन्होंने मुझे उन महत्वाकांक्षाओं और सपनों को पूरा करने में मदद की थी, जिनके पूरा होने की तमन्ना मैं कब से कर रही थी।वहीं मैंने भी उन्हें उनके संवेदनशील और भावनात्मक व्यक्तित्व के कारण ही पसंद किया था।

हालांकि, ये बात भी सौ फीसदी सच है कि जीवनसाथी के रूप में हम दोनों का चुनाव हमारे माता-पिता ने किया था, लेकिन अरेंज मैरिज वाला सेट-अप कब प्यार में बदल गया पता ही नहीं चला।

हमारी शादी का पहला साल बहुत ही खूबसूरत दौर था। मुझे हर कदम पर अपने पति का साथ मिला रहा था। मैं उन्हें पाकर खुद को बहुत लकी महसूस कर रही थी।ऐसा इसलिए क्योंकि घर संभालने के साथ-साथ मैं अपने सपनों और महत्वाकांक्षाओं को भी अच्छे से पूरा कर रही थी। इतना ही नहीं, उनके साथ रहते हुए मुझे जल्द ही एक अच्छे पद और वेतन वाली नौकरी भी मिल गई थी।

अपनी लाइफ को इस तरह बढ़ता देख मैं बहुत ज्यादा उत्साहित थी। हां, ये बात भी सही है कि जैसे-जैसे समय बीतता गया, मैं हकीकत में अपने काम में व्यस्त होती चली गई।मेरे काम की वजह से मैं अपने घर और अपने पति के साथ मुश्किल से ही समय बिता पाती थी।

हालांकि, इस दौरान मेरे लिए सबसे अच्छी बात यह थी कि मैं कितना भी व्यस्त क्यों न रहूं, मेरे पति को कभी इससे कोई परेशानी नहीं होती है।मेरे पति पूरी तरह से एक समझदार और सुलझे हुए व्यक्ति हैं। उन के केवल दो ही शौक है एक मेरा ख्याल करना और दूसरा अपनी किताबों के बारे में सोचना हैं।

मुझे उनका यह स्वभाव बहुत ही ज्यादा पसंद है, लेकिन मैं उनसे थोड़ी सी नफरत भी करती हूं। ऐसा इसलिए क्योंकि मुझे जिस प्रकार के पुरुष पसंद हैं, वे वैसे हैं नहीं। भले ही ये सच है कि मुझे अपने पति से पहली ही नजर में प्यार हो गया था, लेकिन अब मैं उनके प्रति आकर्षण महसूस नहीं करती।

वह बहुत ही भावुक हैं जबकि मुझे ऐसा आदमी पसंद है, जो मजबूत और जिम्मेदार हो। साथ जो व्यक्ति महत्वाकांक्षी-आत्मविश्वासी और संतुलित हों। जबकि मेरे पति इन सबके बिल्कुल विपरीत हैं। यही एक वजह भी है कि धीरे-धीरे मुझे उनके प्रति नाराजगी महसूस होने लगी। उनके लिए मेरे मन में जो प्यार था, वह गायब होने लगा।

मैं अपने पति के बारे में जितना ज्यादा सोचती हूं, उतना ही मेरा दूसरे पुरुषों से बात करने का मन करता है। शायद ऐसा इसलिए भी क्योंकि मेरे सहकर्मी बहुत ज्यादा आत्मविश्वासी और मर्दाना हैं।मैं अपने पति को धोखा देना नहीं चाहती, लेकिन मैं निश्चित रूप से थोड़ा फ्लर्ट करना चाहती हूं। मेरी शादी में सब कुछ बहुत ही ज्यादा नीरस है।

उनका अपना कोई व्यक्तित्व ही नहीं है वह पूरी तरह से अपने माता-पिता पर निर्भर है, वो उस पैसे पर निर्भर है, जो उन्हें विरासत में मिली है। जबकि मैं चाहती हूं कि वह मेरे अलावा अन्य चीजों पर भी अपना ध्यान केंद्रित करे। पर वो ऐसा कुछ भी नहीं करते हैं। यही एक वजह भी है कि मेरे लिए उनका प्यार खत्म सा हो गया है।

कितनी है एक कप चाय की कीमत? एक दिन में इतना पैसा कमाता है Dolly चायवाला? अगर आपको सांप डस ले तो भूलकर भी ना करें ये 6 काम जैकलिन फर्नांडीज ने रेड रिविलिंग ड्रेस में उड़ाए लोगों के होश बिना मेकअप पति संग बच्चों के स्कूल पहुंची ईशा अंबानी, पहना था इतना सस्ता कुर्ता इंटरनेट से पहले बच्चे ऐसे करते थे मौज-मस्ती