शेखपुरा न्यूज़

Sheikhpura news: कृषि भवन के सभागार में डिजिटल क्रॉप सर्वे को लेकर कृषि कर्मियों का एक दिवसीय प्रशिक्षण शिविर आयोजित

शेखपुरा। स्थानीय संयुक्त कृषि भवन के सभागार में डिजिटल क्रॉप सर्वे को लेकर कृषि कर्मियों का एक दिवसीय प्रशिक्षण शिविर आयोजित किया गया। इस प्रशिक्षण शिविर का उद्देश्य खेतों में फसलों की उपज का सही और सही आंकड़ा इक्कठा करना है। इस जिला को भी डिजिटल क्राप सर्वे योजना में शामिल किया गया है। इसको क्रियांवित करने के लिए आयोजित शिविर में कृषि विभाग के उप परियोजना निदेशक त्रिपुरारी शर्मा भाग लिया।

Sheikhpura news: कृषि भवन के सभागार में डिजिटल क्रॉप सर्वे को लेकर कृषि कर्मियों का एक दिवसीय प्रशिक्षण शिविर आयोजित
डिजिटल क्राप सर्वे को एक दिवसीय प्रशिक्षण

प्रशिक्षण में पटना से आए तकनीकी विशेषज्ञों ने प्रशिक्षण में कृषि पदाधिकारियों,किसान सलाहकारों तथा कृषि समन्वयकों को डिजिटल सर्वे की कार्य विधि की जानकारी दी। इस बाबत उप परियोजना निदेशक ने बताया खेतों में उपजाई जाने वाली फसलों की उपज का सही आंकड़ा पाने के लिए केंद्र सरकार ने बिहार सहित देश के 12 राज्यों में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में डिजिटल क्राप सर्वे कराने का काम शुरू किया है। इसमें बिहार के शेखपुरा सहित 5 जिलों को शामिल किया गया है।

शेखपुरा के अलावे मुंगेर,लखीसराय,नालंदा और जहानाबाद जिलों को शामिल किया गया है। डिजिटल क्राप सर्वे का विधिवत काम रबी फसल में किया जाएगा,इसके लिए अभी से प्रशिक्षण दिया जा रहा है। डिजिटल क्राप सर्वे में शेखपुरा जिला के 89 गांवों के 7030 भूखंडों पर फसल उपज का आंकड़ा एकत्र किया जाएगा। इस सर्वे में प्रखंडों के कृषि पदाधिकारी को चेकर,उनसे ऊपर कृषि समन्वयकों को पर्यवेक्षक तथा किसान सलाहकारों को सर्वेयर बनाया गया है। सर्वे के लिए प्रशिक्षण का कई और चरण आयोजित किया जाएगा। यह क्राप सर्वे सांख्यिकी विभाग द्वारा किए जाने वाले फसल कटिंग सर्वे से अलग किया जाएगा। समूचे देश में कृषि उपज का सही आंकड़ा प्राप्त करने के लिए केंद्र ने डिजिटल क्राप सर्वे का काम शुरू किया है।

कितनी है एक कप चाय की कीमत? एक दिन में इतना पैसा कमाता है Dolly चायवाला? अगर आपको सांप डस ले तो भूलकर भी ना करें ये 6 काम जैकलिन फर्नांडीज ने रेड रिविलिंग ड्रेस में उड़ाए लोगों के होश बिना मेकअप पति संग बच्चों के स्कूल पहुंची ईशा अंबानी, पहना था इतना सस्ता कुर्ता इंटरनेट से पहले बच्चे ऐसे करते थे मौज-मस्ती