मनोरंजन

ये युवा SDM अपने नवजात बच्चे के साथ करती है ऑफिस के काम, जाने कौन हैं ये IPS

आज के युवा आजकल एक से एक उदाहरण पेश करते देख रहे हैं, एक ऐसे ही युवा उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले की मोदीनगर के आईपीएस अधिकारी है जो काफी हटकर उदाहरण पेश की है.आज इनकी तस्वीर सोशल मीडिया पर काफी  देखी जा रही है. इस आईपीएस अधिकारी का नाम सौम्या पांडे है. इस आईपीएस अधिकारी ने कोरोना काल में अपनी एक बच्ची को जन्म दिया परंतु गौर करने वाली बात यह रही कि यह अपनी बेटी के जन्म देने के बाद महीने से कम समय में थी अपनी ड्यूटी वापस ज्वाइन कर ली और अपने नवजात बेटे के साथ ऑफिस के काम करते दिखे हैं।

आपको बता दे की इस लेडी एसडीएम का नाम सौम्या पांडे है। इनहोने कोरोना के इस महामारी  को देखते हुए इस तरह की जिम्मेवारी लेने का काम किया है।उन्हें पता था कि इस समय मे देश को उनकी काफी जरूरत है इसलिए इस लेडी एसडीएम ने अपने नवजात बेटी के लिए एक मां का फर्ज निभाते हुए इस देश का भी फर्ज निभाया है। सोशल मीडिया पर इस लेडी आईपीएस अधिकारी की काफी तारीफ चारों तरफ हो रही है।

बेटी के जन्म के मात्र 22 दिन बाद ही जॉइन की ऑफिस

गौरमतलब है की सौम्या पांडे मूल रूप से प्रयागराज की रहने वाली है।इनकी पहली नियुक्ति ही गाजियाबाद जिले के मोदीनगर तहसील में हुई है। उन्होंने अपनी बेटी के जन्म के मात्र 22 दिन बाद भी जिलाधिकारी के निर्देश के बाद अपनी ड्यूटी वापस ज्वाइन की है। वह अपने नवजात बेटी के साथ काम करते नजर आए हैं।इस फोटो को देख सोशल मीडिया पर लोग सौम्या पांडेय की काफी तारीफ कर रहे हैं।

बोली देश को मेरी जरूरत

सौम्या पांडे ने एक न्यूज़ चैनल से बात करते हैं हुए में कहा कि महिलाएं पहले भी इस तरह से काम करते हुए नजर आए हैं। कई महिला अधिकारी अपने परिवार के साथ साथ देश के भी जिम्मेवारी संभालते नजर आई है। उन्होंने कहा कि मुझे बच्ची के साथ अपने ऑफिस में काम करने में अपने परिवार का काफी सहयोग मिला है। इसके साथ ही गाजियाबाद के जिलाधिकारी ने भी मेरी काफी सहायता की है। आगे उन्होंने बताया कि प्रदेश के मुख्यमंत्री इस कोरोना वायरस महामारी को अपने मिशन के रूप में लिया है और उनके इस मिशन में हम सब अधिकारी उनके साथ हैं, इसलिए मौजूदा समय में मैं छुट्टी कैसे ले सकती हूं।

दफ्तर के काम और अपने घर के कामों के बीच कैसे समन्वय बिठाने की बात पर उन्होंने कहा कि मुझे काफी बार को COVID हॉस्पिटलों में जाना पड़ता है पर जब मैं अपने ऑफिस से घर अति हूँ तो मैं अपने आप को और सारी फाइलों को पूरी तरह से सैनिटाइज करती है ताकि मैं और मेरे परिवार, मेरी बच्ची हर कोई सुरक्षित रहे। यह मेरी जिम्मेदारी है कि मैं खुद को और अपने देशवासियों को और अपने परिवार वालों को बिल्कुल सुरक्षित रखें।

source : bihari voice

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top