धार्मिक

Chanakya Niti : मौत जैसी बदतर हो जाती है जिंदगी, जब इंसान के जीवन में आती हैं ये परिस्थितियां

यदि कोई व्यक्ति आचार्य चाणक्य के सिद्धांतों को अपने जीवन में अपना लेता है तो उसे कभी भी बुरे समय का सामना नहीं करना पड़ता है। जीवन की हर स्थिति को आचार्य चाणक्य ने अपनी नीतियों में समझाया है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं आचार्य चाणक्य के अनुसार व्यक्ति के लिए जीवन में कौन सी परिस्थितियां मृत्यु के समान होती हैं।

जब इंसान के जीवन में आती हैं ये परिस्थितियां

वृद्धावस्था में व्यक्ति को अपने जीवनसाथी के सहारे की सबसे अधिक आवश्यकता होती है। ऐसे में अगर दोनों में से किसी एक की मौत हो जाए तो इससे ज्यादा दुख की बात कुछ नहीं है

दरअसल व्यक्ति जीवन भर मेहनत करके पैसा कमाता है। मेहनत की कमाई अगर किसी और के पास चली जाए तो वह इंसान बर्बाद हो जाता है। ऐसे में उसे कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। उसके लिए अपना और अपने परिवार का जीवन यापन करना मुश्किल हो जाता है।

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि कड़ी मेहनत करके जीवन जीना अच्छा है, भले ही वह कमाया हुआ धन ही क्यों न हो। वहीं जब इंसान दूसरों की मदद से जीवन यापन करता है तो ऐसे लोगों का जीवन नर्क के समान होता है।

Facebook Comments Box
Leave a Comment

Recent Posts