देश न्यूज़

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने चलाई जीरो टॉलरेंस की पॉलिसी, गलत तरीके से बनाया धन सरकारी खजाने में

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ आजकल उत्तर प्रदेश में जीरो टॉल रेंस की पॉलिसी चला रहे हैं। वे गलत काम करने वाले लोगों को उसी के अंदाज में सबक दे रहे हैं। इसी पॉलिसी के अंतर्गत लखनऊ पुलिस ने अजमत अली और उसके बेटे इकबाल के ऊपर कई धाराओं के तहत कार्रवाई की है। बीते दिनों अजमत अली के पास मौजूद लगभग ढाई सौ करोड़ से ज्यादा की संपत्ति को धूमिल कर दिया गया और वहीं उसके बेटे इकबाल की 77 लाख की संपत्ति सरकार के हवाले कर दी गई है।

एक समय अजमत अली केवल 1200 रूपए की नौकरी करता था। अजमत अली का बेटा इकबाल समाजवादी पार्टी की सरकार में राज्यमंत्री था। लखनऊ पुलिस के तरफ से जारी एक बयान के अनुसार अजमत अली और इकबाल दोनों बाप बेटे मिलकर एक समूह का संचालन कर रहे थे।जिसका मुखिया स्वयं अजमत अली है। उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार आने के बाद से ऐसे लोगों की संपत्ति लेकर सरकारी खजाने को भरा जा रहा है और गलत काम से अर्जित संपत्ति को सरकारी खजाने में डालने के साथ-साथ उन्हें नसीहत भी दी जा रही है।

लखनऊ पुलिस यह काम ए टी सोशल एक्टिविटीज एक्ट 1986 कानून के तहत् कर रही है। मीडिया द्वारा दी गई एक रिपोर्ट के अनुसार अजमत अली के पास 2,54,24,02,951 रुपए और इकबाल के पास 77,35,530 रुपए की संपत्ति पाई गई है। इन संपत्तियों के अंतर्गत कैरिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड हॉस्पिटल, हॉस्टल, स्नातकोत्तर संस्थान, निर्माणाधीन भवन और जमीने शामिल है। इसके अलावा क्वालिस कार, इनोवा, फॉर्च्यूनर के साथ-साथ और भी कई गाड़ियां शामिल है।

आपको बता दें कि लखनऊ पुलिस कमिश्नर ने सोशल मीडिया के जरिए ट्वीट कर यह जानकारी दी है कि अजमत अली और उनके जैसे लोग अब गलत कामों में अपनी भूमिका नहीं दिखा सकते हैं, साथ ही उनकी संपत्ति भी सरकारी खजाने में डाल दी जा रही है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top